चीनी मिल के मुद्दे पर भाजपा ने भी भदोही के किसानों को दिया धोखा

औराई,भदोही। जनपद में कई दशक से  बंद पड़ी चीनी मिल को चालू कराने की तो कई सरकार चुनाव से पहले वादा किया किन्तु अभी तक उसको चालू कराने की कोई कवायद नही किया गया। किन्तु जिस समय प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी तो उस समय औराई विधान सभा क्षेत्र की जनता के मन में एक बार फिर चीनी मिल चालू होने की आश जग गयी। लेकिन अभी चीनी मिल को चालू कराने की आेर कोई ठोस कदम न उठाये जाने के कारण जनता की बेचैनी बढऩे लगी है और विधान सभा क्षेत्र के विधायक दीनानाथ भाष्कर के ऊपर निगाहे लगाये हुयी है। ज्ञात हो कि 2०१४ के चुनाव में केन्द्र में भाजपा की सरकार बनी तो उस समय भी चीनीमिल क्षेत्र की जनता की प्रमुख मांगो में शामिल था किन्तु जब प्रदेश में भी भाजपा की सरकार बनी औराई विधान सभा क्षेत्र में भाजपा के विधायक चुने गये तो एक बार फिर क्षेत्र की जनता के मन में चीनी मिल चालू होने की प्रबल इच्छा जागृत हो गयी कि अब तो निश्चित ही बंद पड़ी चीनी मिल चालू होगी। किन्तु अभी तक उसको चालू कराने के संबन्ध में ठोस कदम न उठाये जाने के कारण जनता काफी परेशान है। जबकि जनता यह सोच रही है कि केन्द्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है और जनपद में भाजपा के सांसद व औराई , भदोही विधानसभा क्षेत्रो में भाजपा के विधायक चुने गये है अगर इस समय चीनी मिल को चालू नही कराया गया तो कभी चालू नही कराया जा सकता। जनता के  द्वारा उक्त बातो को लेकर विधान सभा क्षेत्र के सार्वजनिक चौराहो पर चर्चा करते हुये देखा व सुना जा सकता है। ज्ञात हो कि औराई विधान सभा क्षेत्र में चीनी मिल की स्थापना कांग्रेस पार्टी के नेता एवं केन्द्रीय मंत्री रहे पं० श्यामधर मिश्र द्वारा सन 19७1 में कराया गया था और चीनीमिल का चलाने के लिए  4 गन्ना क्रय केन्द्र की स्थाना की गयी थी। किन्तु  चीनी मिल में कार्यरत बड़े-बड़े अधिकारियो के लापरवाही के चलते चीनी मिल को 206 में बंद करना पड़ा। चीनी मिल में कार्यरत मजदूरो ने चीनी मिल न बंद होने के कारण काफी दिन बिना वेतन लिये काम कर रहे थे कि किन्तु अधिकारियो के दावपेेंच के कारण धीरे-धीरे स्थापित गन्नाक्रय केन्द्रो को कम किया और किसानो को उनके गन्ने का भूगतान में भी विलंब से देने के कारण चीनीमिल बंद होने की कगार पर पहुंच गयी और आखिरकार चीनी मिल पूर्ण रूप से बंद हो गयी। चीनी मिल बंद हो जाने के काद जनपद के हजारो मजदूर बेरोजगार हो गये और आने वाले हर चुनाव में चीनी मिल को चालू कराने का मुद्दा प्रमुखता से लिया जाता रहा है। किन्तु प्रदेश में व केन्द्र में कितनी सरकारे आयी और गयी लेकिन चीनीमिल को चालू कराने का फजीहत कोई मोल नही लिया। जिससे क्षेत्र की जनता की धीरे-धीरे आस टूटने लगी। लेकिन 2०१४ के लोक सभा चुनाव के दौरान वर्तमान सांसद बने वीरेन्द्र मस्त व केन्द्रीय मंत्री नीतिन गडकरी ने भी मंच से चीनी मिल को चालू कराने का वादा किया किन्तु अभी तक उसके चालू कराने के लिए कोई कदम न उठ पाने के कारण जनता के मन में पसोपेस की स्थिति बनी हुयी है। जबकि इस संबन्ध में सांसद वीरेन्द्र सिंह लोक सभा मुद्दा उठाया और चीनी मिल चालू कराने के लिए अधिकारियो द्वारा निरीक्षण चार सौ करोड़ की बजट बनाया था। लेकिन अभी तक कुछ प्रक्रिया न चालू होने के कारण लोगो की बेचैनी बढ़ती जा रही है। जबकि इस समय प्रदेश व केन्द्र में दोनो जगह भाजपा की सरकार है।

 भाजपा के नेता अभी कहते हुये पाये जाते हैं कि इसमें नीतिगत कठिनाईयां आ रही है जबकि भदोही विकास की बड़ी-बड़ी बातें की जाती है चुनाव आते ही विकास याद आता है सच्चाई यह है कि यदि औराई चीनी मिल चालू हो जाये तो कम से कम दो लाख किसानों और दस लाख प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष परिवारो को इसका लाभ होगा जहां एक ओर किसान ईख की खेती  प्रारम्भ करेंगे वहीं मजदूर ट्रैक्टर आदि की मांग बढ़ जायेगी और लोगों की आय शक्ति स्वतः बढ़ने लगेगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किसानों की आय 2022 तक दोगुना करने का दावा किया जा रहा है यदि भदोही के लिये चीनी मिल चालू कर दिया जाये तो निश्चित रूप से भदोही के किसानों की आय में 500 गुना की वृद्धि होगी। जनता को नेता छलावा देना बन्द करके ठोस और कारगर कदम उठाये शायद भदोेही के किसान का भला होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
Facebook
Facebook
YouTube
INSTAGRAM