ताजिया गार दिन-रात ताजिया बनाने में जुटे

भदोही। मोहर्रम का चांद हो गया है। ताजिया का जुलूस 21 सितंबर को निकाला जाएगा। इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी गई है। कारीगरों द्वारा ताजिया बनाने का कार्य पूरे जोर-शोर से चल रहा है। दिन-रात कर ताजिया को बनाने में लोग जुड़ गए हैं। कहीं मस्जिद तो कहीं एतिहासिक इमारतों की नकल कर ताजिया बनाया जा रहा है।यौमे आशूरा यानी मोहर्रम की दसवीं को नगर में ताजिया का जुलूस निकलता है। नगर के विभिन्न मोहल्लों से लगभग 100 से भी अधिक संख्या में छोटे-बड़े ताजिया निकाले जाते हैं। जिन मोहल्लों में नक्काशीदार ताजिया बनाई जाती है। वहां पर ताजिया बनाने का कार्य ईदुल अजहा (बकराईद) से ही शुरू हो जाता है। वहीं काफी मोहल्लों में मोहर्रम के चांद का दीदार करने के बाद ही लोगों द्वारा ताजिया बनाने के लिए हाथ लगाया जाता है। जहां पर नक्काशीदार ताजिया बनाई जाती है। वहां पर ताजिया बनाने का कार्य तो ईदुल अजहा से ही शुरू है। लेकिन जहां पर मोहर्रम का चांद दिखने के बाद उसे बनाना शुरू किया जाता है। अब वहां भी ताजिया बनाने का कार्य चल रहा हैनगर के पश्चिमतरफ(चकदीवानगान) में तो मोहल्ले के युवाओं द्वारा ईदुल अजहा के बाद से ही नक्काशीदार ताजिया बनाई जा रही है। ताजियादार शमशेर खां उर्फ शानू ने बताया कि मोहल्ले के युवाओं द्वारा रात-दिन मेहनत करके ताजिया बनाया जा रहा है। नक्शे के हिसाब को सामने रख कर उसकी नक्काशी काटी जा रही है। काफी पार्टी तैयार हो गए हैं। इस समय गुबंद व मिनार आदि बनाया जा रहा है। ताकि मोहर्रम के 9 वी तारीख को समय से ताजिया को इमाम चौक पर बैठाया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
Facebook
Facebook
YouTube
INSTAGRAM