गोपीगंज ज्ञानपुर से पुराना रिश्ता था अटल बिहारी वाजपेई का

यह चित्र 1998 में ज्ञानपुर जीआईसी मैदान में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए है जिसमें पंडित गोरख नाथ पांडे बगल में सभा का संचालन करते हुए।भारतीय राजनिति के सलाका पुरूष अटल जी के निधन की सूचना न्यूज चैनल पर चल रहा है । अटल जी का भदोही जिला से पुराना नाता भी रहा है । सांगठनिक कार्य से कई बार गोपीगंज भी आए थे ।भारतीय राष्ट्रीय जनसंघ के संस्थापक सदस्य व संगठन के नीति निर्धारक पं. दीनदयाल उपाध्याय की हत्या मुगलसराय में कर दी गई थी । हत्या की संगठन स्तर पर जो जाँच समिति बनाई गई थी उसमे अटल बिहारी वाजपेयी के साथ कोइरौना खेदौपुर निवासी पुर्व विधायक मुरलीधर पाण्डेय जी भी थे ।भारतीय जनसंघ के गठन के बाद कानपुर में प्रथम अधिवेशन में संस्थापक डा.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के मौजूदगी में वहां पर नानाजी देशमुख,पं.दीनदयाल उपाध्याय और अटल जी ये ही लोग संगठन के मुख्य रचनाकार थे । जिसमे अटल जी मुख्यवक्ता एवं प्रचारक के दायित्व निभाते थे । पं. दीनदयाल उपाध्याय संगठन की नीति निर्धारण की जिम्मेदारी निभाते थे वहीं नानाजी देशमुख सांगठनिक व्यवस्था देखते थे । उस जिला समय बनारस था कानपुर के प्रथम अधिवेशन में पं.मुरलीधर पाण्डेय भी मौजूद रहे । और लगातार जनसंघ के लिए मृत्युपर्यंत कार्यरत रहे । अटल बिहारी बाजपेई जी आदर्श गांव कवलापूर में जनसंघ के समय एक छोटी सी सभा को संबोधित किए थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
Facebook
Facebook
YouTube
INSTAGRAM