आवारा पशु के लिए किसानों का शोषण

 

 

भदोही। अखिल भारतीय किसान सभा की बैठक गुरुवार को जिला इकाई की बैठक हुई। जिसमें 9 अगस्त को संगठन द्वारा किए जाने वाले देशव्यापी जेल भरो आंदोलन की सफलता के लिए रणनीति बनाई गई और उस पर विचार विमर्श किया गया।
इस दौरान संगठन के जिला मंत्री इन्द्र देव पाल ने कहा कि जनपद के उंज थाना क्षेत्र के पिलखुना गांव में एक आवारा पशु के मरने पर पुलिस द्वारा किसानों पर प्राथमिकी दर्ज कर ली गई। जिसकी कण शब्दों में निंदा जाती है। सरकार व प्रशासन जिन किसानों के उपर एफआईआर दर्ज की है। उसे तुरंत वापस ले ले। अन्यथा इस मामले को लेकर जिला स्तर पर आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आवारा पशुओं ने न जाने कितने किसानों को मार कर घायल कर चुका है। उसमें से कुछ की तो जान भी चली गई। ऐसे मामलों में सरकार व प्रशासन मौन क्यों रहती है। आदमी की जिंदगी शायद पशुओं की जिंदगी से ज्यादा कीमती है। श्री पाल ने कहा कि आवारा पशु किसानों के फसलों को बर्बाद कर रहे है। लेकिन उस बर्बाद फसलों के एवज में मुआवजा नही दिया जाता। ऐसे में सरकार को चाहिए कि वह आवारा पशुओ के लिए कोई बंदोबस्त करें। ताकि किसानों की फसलों को बर्बाद होने से बचाया जा सके।
इस मौके पर जगन्नाथ मौर्य, श्रीराम सरोज, रामचंद्र पटेल, बेचू बिंद, प्रेम बहादुर, सीताराम यादव, अशोक कुमार गौतम, ज्ञान चंद प्रजापति व हरिशंकर प्रजापति आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे। अध्यक्षता रमापति यादव ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)

Follow by Email
Facebook
Facebook
YouTube
INSTAGRAM